Stock Market Analysis Classes in Hindi Lesson 9 ROE (Return on Equity)

Stock Market Analysis Classes in Hindi Lesson 14 (CASA RATIO)
Stock Market Analysis Classes in Hindi Lesson 9  ROE (Return on Equity)

Stock Market Analysis Classes in Hindi Lesson 9 ROE (Return on Equity)-हेलो दोस्तों आज अपनी इस पोस्ट में हम स्टॉक मार्किट की फंडामेंटल एनालिसिस क्लासेज की सीरीज में ROE (Return on Equity) को समझना स्टार्ट करेंगे । यहाँ पर हम किसी स्टॉक को परचेस करते समय क्या क्या इम्पोर्टेन्ट पॉइंट्स देखने होते हैं इन सब में आज ROE (Return on Equity) को डिसकस करेंगे । तो चलिए स्टार्ट करते हैं ।

ROE (Return on Equity) :-  return  on  equity  (ROE) को हम दो example  लेकर समझेंगे । पहले ये समझते हैं की equity  क्या होता है। किसी भी company  को start  करने के लिए पैसो की आवश्यकता होती है तो company  को पैसा लगाने के दो तरीके हैं एक है equity  जिसमे company  अपनी हिस्सेदारी बांटती है और दूसरा debt  जिसमे कंपनी क़र्ज़ लेती है ।

अब हम इसको दो example  लेकर समझना start  करते हैं ।

EXP 1 :- RAM

PURCHASE  10 PEN  = 10 RS  EACH.

TOTAL  COST  = 100 RS

He add profit and then

sale Price = 20 rs.

He sold 10 pen :-total earning =selling amount- cost  amount=200-100=100rs.

ROE (Return on Equity)=100%

EXP 2 :- SHYAM

PURCHASE  10 PEN  = 10 RS  EACH.

TOTAL  COST  = 100 RS

He add profit and then

sale Price = 15 rs.

He sold 30 pen  :-total earning =selling amount- cost  amount=450-300=150rs.

ROE (Return on Equity)=150%

Explanation:- यहाँ पर पहले Example  में राम ने पूरे दिन में 10 पेन बेचे ज्यादा मार्जिन की वजह से वो केवल 10 पेन ही बेच पाया । वही दूसरी तरफ श्याम ने अपना मार्जिन कम रखा और उसने पूरे दिन में 30 पेन बेचे तो इस प्रकार श्याम ने कम मार्जिन रखने के बाद भी राम से ज्यादा पैसे कमाए ।

ये फर्क है margin  और ROE में । margin  राम का ज्यादा है पर ROE कम है और shaym  का margin  कम है पर ROE  राम से ज्यादा है ।

यही कारण है की Wallmart  का margin  बहुत कम होता है लगभग 1 या 2% पर ROE  बहुत ज्यादा है ।

NOTE:-  महंगा बेचने से ज्यादा अच्छा है की ज्यादा बेचा जाये जिससे ROE  ज्यादा हो । ज्यादा MARGIN  रखने से SALE  कम हो जाती है जिससे ROE (RETURN ON EQUITY ) भी कम हो जाती है । इसको हम दो EXAMPLE  से समझते हैं ।

 EXP 1:-

Eicher  Motors

PAT  MARGIN  = 20.02%

ROE  = 24.79%

EXP  2 :-

Page  Industry  ( jockey)

PAT  MARGIN  = 13.81 %

ROE  = 48.57%

IMPORTANT  NOTE  :- ध्यान रहे की ROE को DEBT लेकर भी बढ़ाया जा सकता है । इसको भी हम दो EXAMPLE लेकर समझेंगे ।

EXP 1:-

EQUITY  CAPITAL  = 100

DEBT  = 0

NET  PROFIT  = 20

ROE  = 20%

EXP 2:-

EQUITY  CAPITAL  = 50

DEBT  = 50

NET  PROFIT  = 14

ROE  = 28%

As an Investor ideal Debt Equity Ratio zero . Debt  होना ही नहीं चाहिए । इसको नीचे दिए गए फार्मूला से निकाल सकते हैं ।

DEBT TO EQUITY RATIO = TOTAL LIABILITY/TOTAL EQUITY

EXP 1:-

Eicher  Motors  

Debt/equity = 0.02%

EXP  2 :-

Page  Industry  ( jockey)

Debt/equity = 0.11%

NOTE 1 :- यदि किसी वजह से माल नहीं बिका तो SHARE HOLDERS को तो कुछ भी नहीं देना होगा पर अगर DEBT होगा तो ब्याज तो देना ही होगा । इसलिए ये भी ध्यान रखना चाहिए की ROE कही DEBT के वजह से तो ज्यादा नहीं  है ।

NOTE 2 :- ज्यादातर company में ये ध्यान रखना चाहिए की debt/equity ratio कम से कम हो या zero हो । अगर ये 1 से ज्यादा है तो company के debt finance equity financing से ज्यादा हैं । और अगर 1 से कम है तो company में debt financing equity financing से कम है ।

NOTE 3 :- ये चीज banks  में apply  नहीं होंगी क्यूंकि banks  का business  ही है customers  से पैसा लेना ।

NOTE 4 :- ज्यादा profit margin से ज़रूरी है की आप ROE देखे और उससे भी ज्यादा ज़रूरी है की आप ज्यादा ROE देखकर खुश न हो ये भी देखे की कही ज्यादा  ROE ज्यादा debt की वजह से तो नहीं है ।

NOTE 4 :- अच्छी company  कम या zero  डेब्ट पर भी ज्यादा ROE  दे सकती है । it should be >20. (for ideal company) 

A simple Formula to Get ROE :-

TOTAL INCOME = 20 LACKS

TOTAL ASSETS = 15 LACKS

TOTAL LIABILITY  = 5 LACKS

HENCE SHARE HOLDER’S EQUITY = 15 LACKS – 5 LACKS = 10 LACKS

HENCE ROE = 20 LACKS / 10 LACKS = 2

CONCLUSION- इस पोस्ट में हमने शेयर एनालिसिस के IMPORTANT  POINTS  में से एक ROE (Return on Equity) को समझा है ।अपनी नेक्स्ट पोस्ट में हम स्टॉक एनालिसिस के कुछ महत्वपूर्ण बिन्दुओ पर धयान देंगे । यदि आपको हमारी पोस्ट अच्छी तथा हेल्पफुल लगी हो तो इसे शेयर अवश्य करे ताकि और लोगो तक भी ये जानकारी आसान शब्दों में पहुंच सके ।

DISCLAIMER – इस वेबसाइट पर दिए गए बिंदु केवल एजुकेशनल पर्पस के लिए हैं इनका किसी कंपनी या शेयर से कोई मतलब नहीं है । शेयर परचेस करते समय ध्यान दिए जाने वाले इम्पोर्टेन्ट पॉइंट्स को समझाना ही हमारा उद्देश्य है । अतः यहाँ दिए गए कंपनी के EXAMPLE को देखकर कृपया किसी कंपनी के बारे में अपनी राय न बनाये , यहाँ केवल पॉइंट्स को समझने का प्रयास करे । यदि आपको अधिक विस्तार से इन पॉइंट्स को समझना है तो आप हमें मेल के माध्यम से भी संपर्क कर सकते हैं । धन्यवाद ।

COMPUTER LEARNING POSTS

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *